Subscribe Us

BEST DUA BUEATYFUL VOICE IN THE WORLD

PLEASE AAP HAMARE YOUTUE CHANNEL KO SUBSCRIBE KAR LIJIYE IS CHANNEL PAR ISLAMIC RELATED VIDEO AUR HADITH ISLAMIC KNOWLEDGE JAISI VIDEO MILENGI

SUBSCRIBE DIN YE ISLAM CLICK HERE

ads

Saturday, November 19, 2022

JANNATI LATHI | जन्नती लाठी

JANNATI LATHI | जन्नती लाठी

 JANNATI LATHI |  जन्नती लाठी 


JANNATI LATHI |  जन्नती लाठी
JANNATI LATHI |  जन्नती लाठी 












JANNATI LATHI |  जन्नती लाठी 

YEH HAZRATE MUSA ALAHI SALAM KI WOH MUKADDAS LATHI HAI JIS KO " ASAAYE MUSA" KAHTE HAI IS KE JARIYE AAP KE BAHUT SE UN MOJIJAT KA JUHUR HUA JIN KO QURAN MAJID ME MUKHTALIF UNWANO KE SATH BAAR-BAAR BAYAN FARMAYA |



IS MUKADDAS LATHI KI TARIKH BAHUT KADIM HAI JO APNE DAMAN ME SEKDO UN TARIKHI WAKIYAT  KO SAMETE HUYE HAI JIN ME IBRATO AUR NASIHATO KE HAJARO NISHANAT SITARO KI TARAH JAGMAGA RAHE HAI JIN SE AHLE NAZAR KO BASIRAT KI ROSHNI AUR HIDAYAT KA NOOR MILTA HAI | 

YEH LATHI HAJRATE MUSA ALAHI SALAM KE KAD BARABAR DAS HATH LAMBI THI | AUR IS KE SAR PAR O SHAKHE THI JO RAAT ME MASHAL KI TARAH ROSHAN HO JAYA KARTI THI | YEH JANNAT KE DHARKHAT PILU KI LAKDI SE BANAI GAI THI AUR IS KO HAZRATE AADAM ALAHI SALAM BEHISHT SE APNE SATH LAAYE THE |

CHUNANCHE, HAZRATE SAYYED ALI AJHURI R. A. NE FARMAYA KI 

TARJUMA - HAZRATE ADAM ALAHI SALAM KE SATH UD ( KHUSHBUDAR LAKDI ), HAZRATE MUSA ALAHI SALAM KA ASA ( JO IJJAT WALI PILU KI LAKDI KA THA ), ANJIR KI PATTIYA, HAJRE ASWAD JO MAKKAYE MUAAJJAMA ME HAI AUR NABIYE MUAJJAM HAZRATE SULAIMAAN ALAHI SALAM KI ANGUTHI YEH PACHO CHIZE JANNAT SE UTARI GAI

JANNATI LATHI |  जन्नती लाठी

येह हजरते मुसा अलैही सलाम कि वोह मुकद्दस लाठी है जिस को " असाए मुसा " कहते है इस के जरीये आप के बहुत से उन मो जीजात का जुहूर हुआ जीन को कुराने मजीद ने मुख्तलीफ उन्वानो के साथ बार बार बयान फरमाया है |

इस मुकद्दस लाठी कि तारीख बहुत कदीम है जो अपने दामन मे सेकडो उन तारीखी वाकीयात को समेट हुए है जीन मे इब्रतो और नासिहतो के हजारो निशानात सितारो कि तरह जगमगा रहे है जीन से अहले नजर को बसिरत कि रोशनी और हिदायत का नूर मिलता है |

येह लाठी हजरते मुसा अलैही सलाम के कद बराबर दस हाथ लंबी थी | और इस के सर पर दो शाखे थी जो रात मे मशाल कि तरह रोशन हो जाया करती थी | येह जन्नत के दर्खत पिलू कि लखडी से बनाई गई थी और इस को हजरते आदम अलैही सलाम बेहिश्त से अपने साथ लाये थे |

चुनांचे, हजरते सय्येद अली अजहुरी र. अ. ने फरमाया कि 

तर्जुमा - हजरते आदम अलैही सलाम के साथ ऊद (खुशबुदार लकडी ), हजरते मुसा अलैही सलाम का असा ( जो इज्जत वाली पिलू कि लकडी का था ), अंजीर कि पत्तीया, हजरे अस्वद जो मक्काये मुआज्ज्मा मे है और नबिये मुअज्जम हजरते सुलैमान अलैही सलाम कि अंगुठी येह पाचो चीजे जन्नत से उतारी गई |


No comments:

Post a Comment

Thanks For Visiting Our Website Din ye islam