Subscribe Us

BEST DUA BUEATYFUL VOICE IN THE WORLD

PLEASE AAP HAMARE YOUTUE CHANNEL KO SUBSCRIBE KAR LIJIYE IS CHANNEL PAR ISLAMIC RELATED VIDEO AUR HADITH ISLAMIC KNOWLEDGE JAISI VIDEO MILENGI

SUBSCRIBE DIN YE ISLAM CLICK HERE

ads

Wednesday, April 27, 2022

DAILY HADEES IMAAN KA BAYAN HINDI

DAILY HADEES IMAAN KA BAYAN HINDI

 DAILY HADEES IMAAN KA BAYAN 

हदीस ईमान का बयान 



DAILY HADEES IMAAN KA BAYAN HINDI
DAILY HADEES IMAAN KA BAYAN HINDI













DAILY HADEES IMAAN KA BAYAN 

हदीस ईमान का बयान



ईमान के लिए तीन चीजों का होना जरूरी है। 1 दिल से सच्चा जानना 2. जुबान से इकरार, 3. जिस्म  के आजाओं (अंगों) से पैरवी और अमल का पाबन्द होना यहूद को आपकी पहचान व तसदीक थी। नीज हिरक्ल और अबू तालिब  ने तो इकरार भी किया था, लेकिन इसके बाबुजूद मोमिन नहीं हैं। दिल से सच्चा जानना और जुबान से इकरार की पैरवी और अमल के बगैर कोई हैसियत नहीं। लिहाजा तसदीक में कोताही करने वाला मुनाफिक और इकरार में कोताही करने वाला काफिर जबकि अमली कोताही करने वाला फासिक है। अगर इन्कार की वजह से बद अमली का शिकार है तो उसके कुफ्र में कोई शक नहीं, ऐसे हालात में तसदीक व इकरार का कोई फायदा नहीं।





imaan ke liye 3 chizo ka hona jaruri hai , 1. dil se sachha janana, 2. jubaan se ikrar, 3. jism ke aajawo (ango, body) se pairvi aur amal ka paband hona yahud ko aapki pahchaan v tasdik thi | nij hirkal aur abu talib ne to ikrar bhi kiya tha, lekin iske bawoojud momin nahi hai | dil se sachha janana aur juban se ikrar ki pairvi aur amal ke baigar koi haisiyat nahi | lihaaja tasdik me kotahi karne wala munafik aur ikrar me kotahi karne wala kaafir jabki amli ka shikar hai, to uske kufr me koi shak nahi, aise haalat me tasdik v ikrar ka koi fayda nahi | 


imaan ka bayan , hadees islamic , islam lecture, ramzan hadees ,ramdan hadis,







DAILY HADEES IMAAN KA BAYAN
DAILY HADEES IMAAN KA BAYAN 







नबी  सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम

का फरमान है : "इस्लाम की

बुनियाद पांच चीजों पर है।"

अब्दुल्लाह बिन उमर रजि. से

रिवायत है कि रसूलुल्लाह

सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने

इरशाद फरमाया : ''इस्लाम की

बुनियाद पांच चीजों पर रखी गई






daily hadis, hadees in hindi , sahi bukhari hadees, english sahi bukhari hadith,






फायदे - हदीस के आखिर में शर्म को खुसूसियत के साथ बयान किया गया है, क्योंकि इन्सानी अखलाक में शर्म का बहुत बुलन्द मकाम है, यह वह आदत है जो इन्सान को बहुत से गुनाहों से रोकती है। शर्म सिर्फ लोगों से ही नहीं बल्कि सब से ज्यादा शर्म अल्लाह से होनी चाहिए। इस बिना पर सब से बड़ा बेहया वह बदबख्त इन्सान है जो गुनाह करते वंक्त अल्लाह से नहीं शर्माता, यही वजह है कि ईमान और शर्म के बीच बहुत गहरा रिश्ता है। (अनुलवारी 1 / 94)





fayde - hadis (hadees) ke aakhir me sharm ko khususiyat ke sath bayan kiya gaya hai, kyoki insani akhlaak me sharm ka bahut buland makam hai, yah wah aadat hai jo insan ko bahut se gunaho se rokti hai | sharm sirf logo se hi nahi balki sab se jyada sharm allah se honi chahiye | is bina par sab se bada behyaa wah badbakht insaan hai jo gunah karte waqt allah se nahi sharmta, yahi wajah hai ki imaan aur sharm ke bich bahut gahra rishta hai | ( anulwari 1 / 94) 






No comments:

Post a Comment

Thanks For Visiting Our Website Din ye islam