Subscribe Us

BEST DUA BUEATYFUL VOICE IN THE WORLD

PLEASE AAP HAMARE YOUTUE CHANNEL KO SUBSCRIBE KAR LIJIYE IS CHANNEL PAR ISLAMIC RELATED VIDEO AUR HADITH ISLAMIC KNOWLEDGE JAISI VIDEO MILENGI

SUBSCRIBE DIN YE ISLAM CLICK HERE

ads

Monday, May 10, 2021

EID KI NAMAZ KA TARIKA HINDI ME | ईद की नमाज़ का तरीका हिंदी में

EID KI NAMAZ KA TARIKA HINDI ME | ईद की नमाज़ का तरीका हिंदी में

 EID KI NAMAZ KA TARIKA HINDI ME | ईद की नमाज़ का तरीका हिंदी में 






EID KI NAMAZ KA TARIKA HINDI ME | ईद की नमाज़ का तरीका हिंदी में
EID KI NAMAZ KA TARIKA HINDI ME | ईद की नमाज़ का तरीका हिंदी में 






ईद की नमाज़ की नियत 
नियत की मैंने २ रकअत नमाज़ वाजिब ईदुल फितर या ईदुल अज़हा में ज़ाइद  ६ तक्बीरो के मुह्ह मेरा काबा शरीफ की तरफ पीछे इस इमाम के  अल्लाहु अकबर 
दोनों ईद की नमाज़ में कोई फर्क नहीं है दोनों एक ही तरीके से पढ़ी  जाती है सिर्फ वक़्त का फर्क है एक की निय्यत करते वक़्त ईदुल फ़ित्र कहा  जाता है और एक में ईदुल अज़हा 




ईद की नमाज़ का तरीका 
इमाम अल्लाहु अकबर कहकर निय्यत बांध ले फिर आप भी निय्यत  बांधले फिर सना पढ़े  और खामोश हो जाये फिर इमाम तकबीर कहेंगे आप भी तकबीर कहे  और कानो तक हाथ उठाकर छोड़ दे फिर इमाम दूसरी बार तकबीर  कहेंगे आप भी कहें और कानो तक ले जाकर फिर छोड़ दे और फिर  तीसरी बार इमाम के साथ तकबीर कहकर हाथ बांध ले और खामोश  रहकर इमाम की किरात सुने कुछ ना पढ़े 

फिर जब इमाम रुकू करे आप भी करे सजदे करे आप भी करे और  खड़े हो जाये और खामोश रहकर इमाम की किरात सुने  और इमाम रुकू में जाने से पहले ३ बार तकबीर कहेंगे आप भी कहें और  कानो तक हाथ लेजाकर छोड़ दे  और चौथी बार में इमाम तकबीर कहकर रुकू करेंगा आप भी उनके साथ  रुकू में चले जाएँ और नमाज़ मुकम्मल करे 






खुत्बा गौर से सुने 
फिर नमाज़ के बाद बाते ना करे ना इधर उधर देखे बल्कि ईद का  खुत्बा कान लगाकर सुने क्युकी खुत्बा सुन्ना वाजिब होता है  जी तरह नमाज़ में इधर उधर नहीं देखना चाइये उसी तरह से ख़ुत्बे का  भी अदब करें और खामोश रहकर अदब के साथ जिस तरह नमाज़  में बैठे है उसी तरह बैठे और पूरा खुत्बा सुने अगर ख़ुत्बे की आवाज़ कानो 
तक ना आये तब भी उसका अदब रखना ज़रूरी है तो ख़ामोशी से रहे  और अदब से sune






नमाज़ के बाद दुआ करे 
फिर इमाम के साथ दुआ मांगे अल्लाह की बारगाह में रोये अगर रोना  सके तो ऐसी कैफियत बनाये जैसे रोने की सी होती है और उस रब  से कहें या अल्लाह हम तेरी इबादत का हक़ अदा ना कर सके हम ऐसी  इबादत रमजान में ना कर सके जैसा उसका हक़ था हमने बोहोत काम इबादत  की या अल्लाह फिर भी तू हमारी उस इबादत को क़बूल फ़रमाले और  हमें माफ़ करदे अगले रमजान हमें नसीब फरमा ताकि हमने जो वक़्त  इस रमजान में इबादत से महरूमी में गुजरा उस तरह अगले न गुज़रे और हम अगले साल तेरी खूब इबादत करे हमें बख्श दे तू रहीम है हम पर रहेम फरमा  हमारे लिए अपनी रेहमत के दरवाज़े खोल दे और हमारे सगीरा कबीरा गुनाहो  को माफ़ फरमा और हमें जन्नत में अपना दीदार अत फरमा मौला और अपने हबीब सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के सदके हमें  जन्नत  नसीब फरमा या रब्बे करीम हमपर अपना खास करम फरमा 
आमीन सुम्मा आमीन 
मुसलिम भाइयो और बहनो आपको ये पोस्ट कैसी लगी आप हमें कमेंट 
के जरिये bataye





EID KI NAMAZ KI NIYYAT


Niyat ki maine 2 Rakaat Namaz Waajib Eidul Fitar Ya Eidul Azha Me Zaaid 6 Takbiron ke Munh mera Kaaba Sharif ki Taraf Peechhe Is Imaam ke Allahu Akber

Dono eid ki Namaz me koi fark nahi hai dono ek hi tarike se Padhi Jaati hai sirf Waqt ka Fark hai Ek ki niyyat karte waqt Eidul fitr kaha jaata hai Aur Ek me Eidul Azha






EID KI NAMAZ KA TARIKA


 Imaam Allahu Akber Kehkar Niyyat Bandh Le Fir Aap Bhi Niyyat Bandhle Fir Sana Padhe (Yaani Poori Sub'hn)


Aur Khamosh Hojae Fir Imaam Takbir Kahega Aap Bhi Takbir Kahen Aur Kaano Tak Hath Uthakar Chhod De Fir Imaam Dusri Baar Takbir Kahega Aap Bhi Kahen Aur Kaano Tak le jakar Fir Chhood de Aur Fir Tisri baar Imaam ke Sath Takbir kehkar Hath Bandh le Aur Khamosh Rehkar Imaam ki Qirat sune Kuchh na padhen


Fir Jab Imaam Ruku Kare Aap bhi karen Sajde Kare Aap bhi Karen Aur Dus Rak lie Khade Hojaye Aur Khamosh Rehkar Imaam Ki Qirat Sune

Aur Imaam Ruku Me Jaane Se Pahle 3 Baar Takbir Kahega Aap Bhi Kahen Aur Kaano Tak Hath Lejakar Chood De


Aur Chothi Baar Me Imaam Takbir Kehkar Ruku Karega Aap Bhi Unke Sath Ruku Me Chale Jayen Aur Namaz Mukammal Karen






KHUTBA GOUR SE SUNE


Fir Namaz Ke Baad Baten Na Kare Na Idhar Udhar Dekhe Balki Eid Ka Khutba Kaan Lagakar Sune Kyunki Khutba Sunna Wajib Hota Hai


Jis Tarah Namaz Me Idhar Udhar Nahi Dekhna Chahye Usi Tarah Se Khutbe Ka Bhi Adab Karen Aur Khamosh Rehkar Adab Ke Sath Jis Tarah Namaz me bethte hai usi Tarah bethen Aur Poora khutba Sune Agar khutbe Ki Awaaz Kaano tak na Aye Tab bhi Uska Adab Rakhna Zaroori hai To khamoshi se rahen Aur Adab Se Sune






NAMAZ KE BAAD DUA KARE


Fir Imaam ke Sath Duaa Mange Allah ki Baargaah me Roye Agar Ro Na Saken To Aisi Kaifiyat Banaye Jaise Rone ki si hoti Hai Aur Us Rab Se Kahen Ya Allah Hum Teri Ibaadat Ka haqq Adaa na kar Sake hum Aisi ibaadat Ramzan me na kar transl Jaisa Uska Haqq Tha Humne Bohat Kam Ibaadat Ki Ya Allah Fir Bhi Tu Hamari Us Ibaadat Ko Qubool Farmale Aur Hamen Muaaf Karde Ayenda Ramzan Hamen Naseeb Farmana Taaki Humne Jo Waqt Is Ramzan Me Ibaadat Se Mahrumi Me Guzara Us Tarah Ayenda Na Guzre Aur Hum Agle Saal Teri khoob Ibaadat Kare Hamen Bakhsh de Tu Raheem hai Humpar Rahem Farma Hamare liye Apni Rehmat Ke Darwaze Khol De Aur Hamare Sagira, Kabirah Gunahon Ko Muaaf Farma Aur Hamen Jannat Me Apna Deedaar Ataa Farmana Moula Aur Apne Habeeb Sallallahu Alaihi Wasallam Ka Pados Hamen Jannat Me Ataa Farmana Ya Rabbe Kareem Humpar Apna Khaas Karam Farma Aameen Summa Aameen




musalim bhaiyo aur bahno aapko ye post kaisi lagi hai please aap comment ke jariye bataye 


No comments:

Post a Comment

Thanks For Visiting Our Website Din ye islam